AIADMK से शशिकला और उसके भतीजे टीटीवी दिनाकरन किए गए बाहर

0
110

मिलनाडु में जयललिता की पार्टी अन्नाद्रमुक के मंत्रियो और विधायको ने अपनी महासचिव शशिकला और उनके भतीजे और पार्टी के उप महासचिव टीटीवी दिनाकरन को एक झटके में बाहर कर दिया है. विधायको में इस बात पर आमराय बनी है कि किसी एक परिवार का पार्टी पर कब्जा नहीं होना चाहिए. जयललिता की मौत के बाद शशिकला ने पार्टी और सरकार पर अपनी पकड़ बना ली थी लेकिन आखिरकार विधायको ने जयललिता के नाम और काम पर एकजुट होकर शशिकला को दूध में से मक्खी की तरह निकाल कर बाहर कर दिया है. पार्टी को चलाने के लिए एक समिति का गठन किया गया है जो पन्नीरसेल्वम गुट को भी मनाएगी.

पन्नीरसेलवम ने शर्त रखी थी कि शशिकला और उनके परिवार की अन्नाद्रमुक से विदाई के बाद ही कोई सुलह समझौता हो सकता है. क्योकि पार्टी संस्थापक एमजी रामचंद्रन और अम्मा का सिध्दांत था कि पार्टी पर किसी परिवार का कब्जा नहीं हो.

तमिलनाडु के मंत्री डी जयकुमार ने मंगलवार रात को मीडिया को बताया कि, “पार्टी ने शशिकला, दिनाकरन और उनके परिवार से सभी संबंधों को तोड़ दिया है. अम्मा (जयललिता) की मौत तक शशिकला पार्टी की प्राथमिक सदस्य भी नहीं थीं. अब पार्टी का संचालन एक समिति करेगी.”

जयललिता की मौत के बाद शशिकला के पार्टी और सरकार पर कब्जे के बाद पार्टी दो गुटों में बट गई थी. शशिकला के नेतृत्व में अन्नाद्रमुक (अम्मा) और पनीरसेल्वम के नेतृत्व में अन्नाद्रमुक (पुरुचीतलाइवी अम्मा) गुट का गठन हुआ था. दोनों गुटों ने चुनाव चिन्ह पर अपनी दावेदारी की थी, जिसकी वजह से चुनाव आयोग ने दो पत्ते के चिन्ह को जब्त कर लिया था.

शशि‍कला के भतीजे दिनाकरन पर आरोप है कि उन्होंने पार्टी के चिनाव चिन्ह को शशिकला धड़े के नाम करवाने के लिए चुनाव आयोग के अधिकारियों को करोड़ो की रिश्वत देने की तैयारी कर ली थी.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY