ब्रह्मोस और सुखोई के जवाब में चीन ने उतारा स्टील्थ लड़ाकू विमान J-20

0
121

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जी-20 समिट के लिए चीन यात्रा से पहले चीन के स्टील्थ लड़ाकू विमान J-20 की तिब्बत के दाओचेंग येडिंग एयरपोर्ट से तस्वीरे आई है. ये विमान राडार से बच कर उड़ान भरता है और से जिस एयर पोर्ट पर इसे देखा गया ये भारत के अरुणाचल प्रदेश के पास है जहां पर भारत ने अपने सबसे तेज लड़ाकू विमान सुखोई और सबसे तेज क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस को तैनात किया है.

चीन का J- 20 विमान 14000 फीट की उंचाई पर दुनिया के सबसे ऊंचे सिविलयन एयरपोर्ट पर खड़ा देखा गया है. दो इंजन वाले चीन के इस सुपरसोनिक विमान ने पहली बार जनवरी 2011 में उड़ान भरी थी. अपने इस लड़ाकू विमान और इसकी खूबियों को चीन दुनिया की नजरो से छुपा कर रखता है.

चीन का यह कदम भारत की उस घोषणा के जवाब के रुप में देखा जा रहा जिसमें भारत ने साफ कहा था कि वह अरुणाचल प्रदेश में अपनी सीमाओं की सुरक्षा के लिए ब्रह्मोस मिसाइल की तैनाती कर रहा है.

चीन ने भारत के ब्रह्मोस मिसाइल की तैनाती के कदम का विरोध किया था लेकिन भारत ने  दो टूक कह दिया था कि हम अपनी सीमाओं की सुरक्षा के लिए हर संभव कदम उठाने को आजाद है.

चीन के दौरे से पहले पीएम मोदी शनिवार को वियतनाम दौरे पर ब्रह्मोस मिसाइल पर बात करेंगे. चीन के खतरे के मद्दे नजर वियतनाम दुनिया की नम्बर-1 क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस को खरीदना चाहता है. ये मिसाइल जमीन और समुद्र में 290 किलोमीटर की दूरी तक अचूक निशाना लगाती है.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY