हरियाणा में 29 से फिर जाट आंदोलन के ऐलान से तनाव !

0
86

रक्षण की मांग को लेकर 29 जनवरी से जाट आंदोलन के फिर से शुरु करने के ऐलान के बाद हरियाणा में तनाव का माहौल है. जाटो की राजधानी कही जाने वाले रोहतक के जाट फिर आंदोलन के मूड में है. 40 से ज्यादा खाप आंदोलन के पक्ष में है जबकि करीब 60 खापों ने आंदोलन में शमिल नहीं होने का एलान किया है. पिछली बार सबसे ज्यादा नुकसान रोहतक में ही हुआ था.

आंदोलन के नाम पर हुए हत्या, हमले, आगजनी, लूटपाट, तोड़फोड़ और हाइवे पर महिलाओं के साथ बलात्कार के मामले अभी ठंडे भी नहीं पड़े है ऐसे में दोबारा आंदोलन की बात से जाट समुदाय की खाप भी बंट गई है.

चंडीगढ़ में शुक्रवार को मुख्यमंत्री मनोहर लाल के साथ बैठक के बाद जहां करीब 18 खापों के प्रतिनिधियों ने 29 जनवरी के आंदोलन से दूर रहने का एलान किया, वहीं रोहतक में जमा 43 खापों के प्रतिनिधियों ने आंदोलन में बढ़-चढ़कर भाग लेने की घोषणा कर डाली.

पिछली बार की तरह कोई चूक न हो इसलिए सरकार और प्रशासन ने भी तैयारी कर ली है. राज्य में अर्ध सैनिक बलों की 55 कंपनियां तैनात की गई हैं.

हरियाणा मे लगभग 25 लाख बच्चों को पोलियो की दवा पिलाने का अभियान चल रहा है. जाट आंदोलन की वजह से अभियान को स्थगित करना पड़ सकता है.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY