सेना द्वारा तख्ता पलट किया जा रहा है- ममता बनर्जी

0
89

श्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी टोल प्लाजा पर सेना की मौजूदगी के विरोध में करीब 30 घंटे तक दफ्तर मे रहने के बाद बाहर आ गई है.  सेना की सड़को पर तैनाती को ममता ने राजनीतिक,असंवैधानिक, बदले की भावना, अनैतिक और अलोकतांत्रिक बताकर इस पर कड़ा एतराज जताया है. ममता ने केन्द्र सरकार पर राज्य सरकार को दबाने का आरोप लगाते हुए मोदी से लड़ने की हुंकार भरी है.

ममता का कहना है कि, “केंद्र हमें दबाने की कोशिश कर रहा है. हम कानूनी तौर पर उनसे लड़ेंगे”

टोल प्लाजों पर सैन्यकर्मियों की तैनाती को लेकर ममता बनर्जी ने राज्य सचिवालय नबन्ना में गुरुवार देर रात संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि, “उनका इरादा राजनीतिक, असंवैधानिक, बदले की भावना, अनैतिक, और अलोकतांत्रिक है. मैंने निर्णय किया है कि जब तक सेना को इस सचिवालय के सामने से नहीं हटाया जाता है, मैं यहां से नहीं जाऊंगी. मैं यहीं ठहरूंगी. क्या इस देश में सेना द्वारा तख्ता पलट किया जा रहा है ?.”

ममता के मुताबिक, “मुर्शिदाबाद, जलपाईगुड़ी, दार्जीलिंग, उत्तर 24 परगना, बर्धमान, हावड़ा और हुगली आदि जिलों में सेना के जवानों को तैनात किया गया है.”

ममता का आरोप है कि, “उन्होंने सेना को राज्य सरकार को सूचित किए बगैर तैनात किया गया है. यह अभूतपूर्व और बेहद गंभीर मामला है. हमने दूसरे राज्यों से भी पता किया, लेकिन वहां सेना द्वारा ऐसा कोई अभ्यास नहीं किया जा रहा है.”

इससे पहले बुधवार को ममता और उनकी पार्टी ने ममता की हत्या की साजिश रचने का आरोप लगाया था.

ममता का आरोप है कि, “जब वह पटना रैली को संबोधित कर वापस कोलकाता लौट रही थीं, तब उनके विमान में ईंधन कम होने के बावजूद उसे एयरपोर्ट पर लैंड कराने में देरी की गई.”

दरअसल, त़ृणमूल पार्टी के नेताओं पर शारदा चिट फंड घोटाले में सीबीआई की तलवार लटक रही है. ममता को अंदेशा है केंद्र के इशारे पर सीबीआई शिकंजा कस सकती है. ऐसे में 500 और 1000 रुपये की नोटबंदी का ऐलान होते ही आम जनता की परेशानी और नकदी की दिक्कत को मुद्दा बनाकर ममता बनर्जी ने मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY