सीएम की कुर्सी के लिए रोने के बाद शशिकला अब धरने के लिए तैयार !

0
122

मिलनाडु के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर दावेदारी करने वाली शशिकला ने सीएम की कुर्सी के लिए रविवार को आंसू बहाए तो पन्नीरसेल्वम ने इसे घड़ियाली आंसू बता दिया. शशिकला ने विधायको को समर्थन जुटाने के लिए भीगी आंखो से पार्टी और जयललिता की विरासत को बचाने की अपील की. शशिकला ने महिला कार्ड खेलते हुए कहा कि राजनीति में महिलाओं को चुनौती का सामना करना चाहिए जयललिता ने भी इस दौर को झेला है.

जयललिता के बाद वारिस का फैसला गवर्नर के निर्णय पर टिका है. शशिकला बुलावे में देरी पर धरने पर बैठने की तैयारी कर रही है जबकि पनीरसेल्वम को जनता और नेता का समर्थन लगातार बढ़ रहा है.

शशिकला ने गोल्डेन बे रिसॉर्ट में जाकर अपने समर्थक विधायकों से कहा कि, ”पार्टी की महासचिव बनाए जाने के बाद अम्मा की समाधि पर गई. लेकिन वहां से बाहर नहीं आ सकी. किसी चुंबकीय शक्ति ने मुझे जाने नहीं देना चाहती थी. उसी दिन मैंने शपथ ली मैं अपनी आखिरी सांस तक उनकी विरासत को संभालूंगी.”

शशिकला ने कहा, ”हम सभी को जीत के लिए शपथ लेनी चाहिए, इसके बाद हम सब अम्मा की समाधि पर जाएंगे और अपनी जीत को उन्हें समर्पित करेंगे. अगर आप सब मेरे पीछे मजबूती से खड़े रहेंगे तो मैं पा सकती हूं.”

शशिकला ने पन्नीरसेल्वम पर हमला बोलते हुए कहा, ”पन्नीरसेल्वम जो लंबे समय तक मंत्री थे आज सब बर्बाद करना चाहते हैं.”

दूसरी ओर, पूर्व मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम का पलड़ा भारी होता जा रहा है. सात विधायक और आठ लोकसभा और दो राज्य सभा सांसद हैं.

पनीरसेल्वम तमिलनाडु के प्रभावशाली थेवर समुदाय के है. उनके पिता एमजी रामचंद्रन के लिए काम करते थे जिनकी मौत के बाद जयललिता ने उनकी विरासत को संभाला.

पनीरसेल्वम और शशिकला दोनो अब जयललिता की विरासत पर कब्जे के लिए लड़ रहे है. पन्नीरसेल्वम को तो राजनीति का लंबा अनुभव है लेकिन शशिकला को ऐसा कोई अनुभव नहीं है. वो 25 साल पहले एक वीडियो पार्लर चलाती थीं. जयललिता से दोस्ती कर वो उनकी राजदार और राजनीतिक निर्णयो में साझीदार बन गई. जिस जयललिता की विरासत पर शशिकला हक जता रही है उन्ही जयललिता ने खुद को जहर से मारने की साजिश की मीडिया रिपोर्टो के बाद शशिकला से दूरी बना ली थी.

तमिलनाडु में सरकार बनाने के लिए 235 सीटों वाली विधानसभा में बहुमत के लिए 118 विधायकों का समर्थन चाहिए. फिलहाल एआईएडीएमके के पास 135 और डीएमके के पास 89 सीटें हैं. पनीरसेल्वम खेमे का दावा है कि उनके पास 50 से ज्यादा विधायकों का समर्थन है, जबकि शशिकला ने 90 से ज्यादा विधायकों को एक रिजॉर्ट में बंद करके रखा है.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY