साबरमती एक्सप्रेस ब्लास्ट: 16 साल कैद के बाद आरोप मुक्त हुआ गुलजार वानी

0
69

लीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का पूर्व स्कॉलर और संदिग्ध हिजबुल मुजाहिद्दीन ऑपरेटर गुलजार अहमद वानी को बाराबंकी की एक अदालत ने 2000 में साबरमती एक्सप्रेस में हुए ब्लास्ट का षडयंत्र रचने के आरोप से बरी कर दिया है. अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश एम ए खान ने दोनों (मोबीन और वानी) आरोपियों को सभी आरोपों से मुक्त कर दिया क्योंकि अभियोजन उनके खिलाफ लगाए गए किसी भी आरोप को साबित नहीं कर सका.

वानी को 2001 में दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया था. साबरमती एक्सप्रेस में हुए ब्लास्ट में 9 लोगों की मौत हुई थी. वानी के खिलाफ 11 मामलो में केस दर्ज है. जिसमें से 10 मामलो में उसे पहले ही बरी कर दिया गया है. एक मामले में उसे 10 साल की सजा हुई थी लेकिन दिल्ली हाई कोर्ट ने उसकी इस सजा को सस्पेंड कर दिया.

वानी अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से अराबिक में पीएचडी कर रहा था जब उसे दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY