सु्प्रीम कोर्ट का सलमान को नोटिस, राजस्थान सरकार चाहती है सलमान को जेल भेजना !

0
156

हिरण के शिकार मामले में सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी कर सलमान खान से जवाब मांगा है. सलमान के हाईकोर्ट से बरी होने के फैसले के खिलाफ राजस्थान सरकार की अपील पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की. सरकार ने मांग की है कि जोधपुर हाईकोर्ट के फैसले पर फौरन रोक लगाकर निचली अदालत के फैसले को लागू किया जाए. और सलमान को सरेंडर करने का आदेश दिया जाए, ताकि वह बची हुई सजा काट सकें.

सलमान को चिंकारा और काले हिरण शिकार के दो मामलों निचली अदालत ने गुनहगार मानते हुए सजा सुनाई थी. लेकिन चस्मदीद गवाह जिप्सी के ड्राइवर हरीश की गवाही ना होने की वजह से हाईकोर्ट ने 25 जुलाई को सलमान को बरी कर दिया था.

सलमान पर आरोप है कि उसने ‘हम साथ साथ हैं’ फिल्म की शूटिंग के दौरान भवाद गांव में 26-27, सितंबर 1998 की रात और अगले दिन घोड़ा गांव में हिरण का शिकार किया.

घोड़ा फॉर्म शिकार मामले में सलमान को राजस्थान की कोर्ट ने 5 साल और भवाद मामले में एक साल की सजा सुनाई थी.
सजा की खिलाफ सलमान ने हाईकोर्ट में अपील की. गवाह की गैर-मौजूदगी को वजह मानकर हाइकोर्ट ने 25 जुलाई को सलमान बरी कर दिया.

प्रॉसिक्यूशन की तरफ से गवाह को पेश न कर पाने के कारण इसी साल जुलाई में हाईकोर्ट ने सलमान को बरी कर दिया हालांकि सलमान को बरी करने के बाद शिकार का चश्मदीद गवाह हरीश सामने आया और उसने दावा किया कि, “सलमान के लोगो के फोन पर डराने धमकाने के बाद भी उसने अपना बयान नहीं बदला और अब भी सलमान के खिलाफ गवाही देने को तैयार है लेकिन मुझे किसी ने गवाही के लिए बुलाया ही नही”

ड्राइवर हरीश को 1998 में एक दवा कारोबारी अरुण ने अपनी जिप्सी के साथ उम्मेद भवन भेजा था. उस वक्त ‘हम साथ-साथ हैं’ की शूटिंग चल रही थी. हरीश तीन दिन सलमान के साथ ही रहा. उसी की जिप्सी में बैठकर सलमान दूसरे फिल्मी सितारो के साथ शिकार को निकला था.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY