रेलवे से जमीन का मुआवजा ना मिलने पर कोर्ट ने किसान को बना दिया ट्रेन का मालिक !

0
151

पंजाब में रेलवे लाइन के लिए किसान की जमीन लेने के बाद भी उसे मुआवजा ना देने पर अदालत ने किसान की जमीन पर बने रेलवे स्टेशन और स्वर्ण शताब्दी ट्रेन की कुर्की का आदेश दे दिए. कोर्ट ने स्वर्ण शताब्दी ट्रेन के साथ-साथ लुधियाना रेलवे स्टेशन मास्टर के ऑफिस की कुर्की के आदेश दिए हैं जिससे कि लुधियाना-चंडीगढ़ रेलवे ट्रैक के लिए किसान संपूर्ण सिंह को जमीन का करीब 1 करोड़ 5 लाख रुपए का बकाया भुगतान हो सके.

कोर्ट के आदेश के मुताबिक अब किसान संपूर्ण सिंह स्वर्ण शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन का मालिक है. कोर्ट के आदेश की तामील के लिए किसान अपने वकीलो के साथ रेलवे स्टेशन पहुंचा तो सभी हैरान रह गए.

बुधवार को अदालती स्टाफ के साथ किसान के वकीलो ने रेलवे स्टेशन पर जाकर कुर्की के आदेश विभागीय अफसरों को तामील कराए. शाम को जब अमृतसर से दिल्ली जाने वाली स्वर्ण शताब्दी करीब 7 बजे प्लेटफॉर्म एक पर पहुंची तो अदालती स्टाफ ने अटैचमेंट की कार्रवाई पूरी की. फिलहाल रेलवे के सेक्शन इंजीनियर को ट्रेन की सुपुर्दगी दी गई है.
वही अब अदालती की अमानत बन चुकी ट्रेन की जिम्मेदारी संभालेंगे.

दरअसल, लुधियाना-चंडीगढ़ रेलवे ट्रैक के लिए समराला के पास गांव कटाणा में किसान संपूर्ण सिंह की जमीन का अधिग्रहण हुआ. जमीन का मुआवजा 18 फीसदी ब्याज के साथ 1 करोड़ 5 लाख 38 हजार 231 रुपए 51 पैसे तय हुआ था. लेकिन जब मुआवजा राशि लंबे समय तक नहीं मिली तो संपूर्ण सिंह ने लुधियाना जिला कोर्ट में एडीशनल जिला एवं सेशन जज जसपाल वर्मा की अदालत में अर्जी लगाई जिसके बाद कोर्ट ने किसान को मुआवजा दिलाने के लिए रेलवे की संपत्ति की कुर्की का आदेश दिया.

अब इस मामले में अगली कार्रवाई 18 मार्च को होगी. किसान के वकीलो के मुताबिक अगर उनके मुवक्किल को बकाया मुआवजे का भुगतान नहीं हो पाता है तो वह अदालत से कुर्क की गई रेलवे की संपत्ति की नीलामी कराने की गुहार लगाएंगे.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY