रामजन्मभूमि पर मस्जिद नहीं महाजिद- विनय कटियार

0
173

त्तर प्रदेश में राममंदिर के महत्व, राजनीति और विवाद पर हमने राममंदिर के साथ राजनीति शुरु करने वाले बीजेपी के वरिष्ठ नेता विनय कटियार से एक खास बातचीत की. विनय कटियार का साफ कहना है कि रामजन्मभूमि का विवाद मुसलमानो के अड़ियल रवैये के वजह से अटका हुआ है. रामजन्मभूमि पर मुसलमानो की मस्जिद नहीं बल्कि महाजिद है.

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद विनय कटियार ने कहा कि, “राम मंदिर प्रतिष्ठा का सवाल है. हिंदू आस्था का सवाल है, जन-जन का सवाल है. राम जन्मभूमि पर हमारे आराध्यदेव भगवान राम के मंदिर का निर्माण जरुर होना चाहिए.”

विनय कटियार का कहना है कि, “रामजन्मभूमि पर मुसलमानो की मस्जिद नहीं उनकी महाजिद है. विदेशी आक्रांता बाबर ने हमारे राममंदिर को तोड़ा बहुत सारे मंदिर तोड़े हम हर किसी की बात नहीं कर रहे है सिर्फ रामजन्मभूमि की बात कर रहे है.”

विनय कटियार ने कहा है कि, “रामजन्मभूमि स्वर्ग से भी महान है. लेकिन भगवान राम टाट में है हम ठाठ में है. हम सब इसके लिए जिम्मेदार है.”

राममंदिर आंदोलन को बीजेपी ने करीब 30 साल पहले गरमाया लेकिन मामला संवेदलशील होने और मुसलमानो के कानूनी दावे की वजह से पार्टी राममंदिर बनाने के अपने दावे को पूरा नहीं कर पाई है. इसपर कटियार ने कहा कि,  “राममंदिर पर बहुत काम हुआ है. हो रहा है. हमे जमीन मिल गई है. अब थोड़ा सा विवाद है उसका भी समाधान निकल जाएगा.”

बीजेपी ने यूपी विधानसभा 2017 के चुनाव में राममंदिर को अपने संकल्प पत्र में रखा और बीजेपी के नेताओ ने बहुमत की सत्ता बनने पर राममंदिर बनाने का भी वादा किया था. राममंदिर आंदोलन को राजनीतिक मुद्दा बनाने वाली बीजेपी देश की राजनीति की मुख्यधारा में आई और केन्द्र की सत्ता तक पहुंच गई. पार्टी पर चुनावी राजनीति के लिए राममंदिर को बनाने के बजाए इस मुद्दे को भुनाने के आरोप लगते रहे है लेकिन विनय कटियार इसे सत्ता से जोड़ने को गलत बताते है. विनय कटियार ने कहा कि. “राममंदिर सत्ता के लिए आंदोलन नहीं था सत्ता और राममंदिर को एक साथ जोड़कर नहीं देखना चाहिए.”

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY