मुंबई बम धमाको में अबु सलेम समेत 6 दोषी करार, दाऊद के अलावा 32 फरार

0
126

टाडा कोर्ट ने मुंबई धमाकों के केस में अबु सलेम समेत 6 को दोषी करार दिया है और एक को बरी किया है. गैंगस्टर अबु सलेम को पुर्तगाल से प्रत्यर्पित कर भारत लाया गया था. पुर्तगाल से प्रत्यर्पण संधि होने के कारण कोर्ट सलेम को फांसी या आजीवन कारावास की सजा नहीं दे सकती है. उसे अधिकतम 25 साल तक की सजा दी जा सकती है. अबु सलेम के साथ मुस्तफा दौसा, करीमुल्ला खान, फिरोज अब्दुल रशीद खान, रियाज सिद्दीकी, ताहिर मर्चेंट को दोषी करार दिया गया है और अब्दुल कयूम को बरी किया गया है.

अयोध्या में बाबरी मस्जिद गिराने का बदला लेने और देश में सांप्रदायिक दंगा भड़काने के लिए पाकिस्तान ने 1993 में दाऊद इब्राहिम गैंग की मदद से मुंबई में बम धमाके कराए थे.  इन धमाको में 257 लोगो की मौत हुई और 713 घायल हुए थे.

मुंबई बम धमाको में दाऊद गैंग का हिस्सा रहे लोगो को टाडा अधिनियम, हथियार कानून और विस्फोटक कानून के तहत अपराधों के अलावा आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत साजिश और हत्या के आरोपों पर दोषी ठहराया गया है. अबु सलेम पर गुजरात से मुंबई हथियार ले जाने का आरोप है.

अबु सलेम ने 16 जनवरी 1993 को अभिनेता संजय दत्त के घर पर भी एके 56 राइफलें, 250 कारतूस और कुछ हथगोले छुपाए थे. कोर्ट ने संजय दत्त को आंतक के आरोपो से बरी कर दिया था लेकिन अवैध हथियार रखने के जुर्म में जो सजा सुनाई गई वो संजय ने जेल में रहकर काट ली है.

बाबरी मस्जिद गिराने का बदला लेने के लिए पाकिस्तान की मदद से दाऊद गैंग ने 12 मार्च 1993 को 12 बम धमाके किए. इन धमाको में 257 की मौत हुई जबकि 713 लोग घायल हो गए थे. 2012 से चल रहा है केस के आरोपी दौसा को दुबई से डिपोर्ट किया गया जबकि अबु सलेम को पुर्तगाल से पकड़ा गया.

मुंबई धमाको से पहले ही दाऊद और उसके भाई देश छोड़कर भाग गए. इस मामले में दाऊद इब्राहिम, टाइगर मेमन समेत 33 मुजरिम अब भी फरार है.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY