बीजेपी विधायक की डांट से रोई आईपीएस ने कहा मेरे आंसुओं को मेरी कमजोरी न समझे

0
67

गोरखपुर में बीजेपी विधायक की डांट-डपट के बाद रोने वाली महिला आईपीएस अधिकारी चारू निगम ने फेसबुक पेज पर अपना पक्ष रखा. चारू निगम के मुताबिक विधायक के सामने जिस तरह से उनके सीनियर अफसर उनके हक में खड़े हो गए उससे वो भावुक हो गई थी. विधायक के व्यवहार से उन्हे  थोड़ा दुख हुआ और वह आहत हुई हैं. निगम ने मीडिया को सहयोग और समर्थन देने के लिए भी शुक्रिया अदा किया है.

आईपीएस चारु निगम ने फेसबुक पर लिखा कि, “मेरे आंसुओं को मेरी कमजोरी न समझे, मेरे आंसू न तो मेरी कोमलता की वजह से बाहर आए और न ही कठोरता की वजह से. मैं एक महिला अधिकारी हूं, सच्चाई में बहुत ताकत होती है और आपकी सच्चाई हमेशा रंग दिखाती है.”3965

चारु निगम ने लिखा कि, “मेरी ट्रेनिंग ने मुझे कमजोर होना नहीं सिखाया है. मैं इस बात की अपेक्षा नही कर रही थी, तभी मेरे सहयोगी एसपी सिटी गणेश साहा वहां पहुंचे और उन्होंने मेरी चोटों के बारे में बात की और इस निर्थक बहस को पूरी तरह से खारिज कर दिया.”

चारु निगम ने कहा कि “जब तक एसपी सिटी सर नहीं आये थे, मैं वहां मौजूद सब से वरिष्ठ पुलिस अधिकारी थी. लेकिन जब एसपी साहब वहां पुलिस बल के साथ आयें और मेरे समर्थन में खड़े हुये तब मैं भावुक हो गई. गोरखपुर का मीडिया जिसने दोनों घटनायें देखी थी उसने पूरी तरह से मेरा साथ दिया और मेरे साथ खड़ा रहा. मैं मीडिया की शुक्रगुजार हूं कि उसने बिना किसी भेदभाव के पूरा सच दिखाया.”

उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा “कृपया शांत रहें, मैं बिल्कुल ठीक हूं बस थोड़ी आहत हुई हूं. कोई चिंता की बात नही है, परेशान न हो.” उन्होंने फेसबुक पर कुछ लाइने हिंदी में भी लिखी.


गौरतलब है कि शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के क्षेत्र के करीमनगर इलाके में एक शराब की दुकान हटवाने के लिए लोगो ने सड़क जाम कर दी थी. रास्ता खुलवाने के मुद्दे पर पुलिस और स्थानीय लोगो में झड़प हो गई थी. उसी दौरान सीएम योगी के करीबी बीजेपी विधायक राधा मोहन अग्रवाल ने वहा पहुंचकर चारु निगम को खूब हड़काया जिसके बाद उनके आंसू निकल आए.

दूसरी ओर विधायक अग्रवाल ने आरोप लगाया कि पुलिस अधिकारी ने शराब की दुकान बंद करवाने की मांग करने वाली वाली जनता के साथ मारपीट और ज्यादती की.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY