पलानीस्वामी बने तमिलनाडु के नए मुख्यमंत्री !

0
98

लानीस्वामी गुरुवार को तमिलनाडु के नए मुख्यमंत्री बन गए. राज्यपाल सी विद्यासागर राव ने गुरुवार शाम राजभवन में एक सादे समारोह में पलानीस्वामी को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायी. उनके 31 को मंत्रियों को भी इसी कार्यक्रम में शपथ दिलायी गयी. पलानीस्वामी पिछले नौ महीने में मुख्यमंत्री की शपथ लेने वाले तीसरे अन्नाद्रमुक नेता हैं. वो मुख्यमंत्री की कुर्सी पर तभी कायम रह पाएंगे जब वो 18 फरवरी को सदन में बहुमत साबित कर देंगे.

वीके शशिकला के जेल जाने के बाद 24 घंटे में उनके भरोसेमंद पलानीसामी मुख्यमंत्री बने. जेल जाने से पहले शशिकला ने अपने भतीजे एस वेंकटेश और पूर्व राज्यसभा सदस्य टीटीवी दिनकरन को उप महासचिव नियुक्त कर उन्हे पार्टी का नम्बर-2 नेता बना दिया. लेकिन शशिकला के परिवार की अचानक बढ़ी  इस ताकत से पार्टी में असंतोष भी है.

पलानीसामी ने गवर्नर से 143 में से 134 विधायको के समर्थन का दावा किया है. उन्हे 18 फरवरी को सदन में अपना बहुमत साबित करना होगा.

दूसरी ओर शशिकला के खिलाफ बगावत करने वाले पन्नीरसेल्वम को जनता और जयललिता की साख पर अब भी चमत्कार का इंकार है. उनके साथ 11 विधायक और 11 सांसद है. शशिकला के अपने भतीजे एस वेंकटेश को नम्बर -2 पर बैठाने के बाद अन्नाद्रमुक के वरिष्ठ नेता वी करप्पासामी पांडियन ने पार्टी के संगठन सचिव पद से इस्तीफा दे दिया. नाराज पांडियन ने जयललिता द्वारा निष्कासित लोगों को फिर से पार्टी में शामिल करने के शशिकला के अधिकार पर सवाल उठाया और कहा कि क्या अन्नाद्रमुक शशिकला की पारिवारिक संपत्ति है.

गौरतलब है कि पांच दिसंबर को जयललिता के निधन के कुछ ही घंटे के अंदर पन्नीरसेल्वम को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दिलायी गयी थी लेकिन शशिकला को मुख्यमंत्री बनवाने के लिए पन्नीरसेल्वम को इस्तीफा देना पड़ा. जयललिता की करीबी रही शशिकला उनकी विरासत की उत्तराधिकारी बनकर पार्टी महासचिव बनने में तो कामयाब रही लेकिन पांच फरवरी को पार्टी विधायक दल की नेता चुने जाने का बाद भी गवर्नर ने उन्हे सरकार बनाने का न्योता नहीं दिया.

पूर्व मुख्यमंत्री पलानीस्वामी के खुद से शशिकला के इशारे पर जबरन इस्तीफा दिलवाने के आरोप और सुप्रीम कोर्ट में आय से अधिक संपत्ति के मामले में शशिकला के सिर पर लटकी 4 साल की सजा की तलवार ने उन्हे मुख्यमंत्री की कुर्सी से दूर कर दिया. के बजाए कारावास दिलवा दिया.

शशिकला ने बुधवार शाम बेंगलुरु में आत्‍मसमर्पण कर दिया और अब वह कर्नाटक की एक जेल में अपनी बची हुई तीन साल 10 महीने और 27 दिन की सजा काटेंगी और जेल से ही सत्ता के समीकरण साधेंगी.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY