दीपा मलिक ने पैरालंपिक गोला फेंक इवेंट में जीता सिल्वर!

0
1248

दीपा मलिक देश की पहली बेटी बन गई है जिन्होंने पैरालंपिक के गोला फेंक इवेंट में सिल्वर मैडल जीता है. एफ 53 इवेंट में दीपा ने भारत को सिल्वर मैडल जीताया. इस जीत के बाद भारत को अब तक रियो पैरालंपिक में 3 मैडल मिल चुके है. दीपा ने अपने छठे प्रयास में 4.61 मीटर तक गोला फेंका.

वहीं बहरीन की फातेमा निधाम ने इस इवेंट में गोल्ड मैडल हासिल किया है. उन्होंने 4.76 मीटर की दूरी तक गोला फेंका.

deepa-malik

आपको बता दे, दीपा के निचले हिस्से में लकवा पड़ जाने से आधा शरीर सुन्न हो गया था. दीपा की कमर के नीचे का सारा हिस्सा लकवे का शिकार हो चुका है. 1999 में रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर के चलते लकवा हुआ. ट्यूमर ठीक करने के लिए दीपा की तीन सर्जरी हुई थी. दीपा ने अपनी इस कमी को अपनी कामयाबी के सामने नहीं आने दिया. दीपा ने अपने जज्बे और हौसले से एक इतिहास लिखा है. 2012 में दीपा को अर्जुन अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था. दीपा शॉटपुट एवं ज्वलीन थ्रो के साथ-साथ तैराकी एवं मोटर रेसलिंग से जुड़ी एक विकलांग भारतीय खिलाड़ी है.

दीपा के मैडल के बाद रियो पैरालंपिक में भारत के कुल तीन मैडल हो गए है. भारत ने एक गोल्ड, एक सिल्वर और एक ब्रॉन्ज अपने नाम किया है. भारत की तरफ से 19 दिव्यांगों का दल पैरालंपिक में भाग लेने गया है.

जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विट कर दीपा को बधाई दी. उन्होंने ट्विट कर लिखा, वेल डन दीपा, आपके सिल्वर मैडल ने भारत को गर्व का मौका दिया.

रियो पैरालंपिक की अन्य खबरों के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज क्लिक करें

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY