तोड़फोड़, हंगामे और शर्टफाड़ ड्रामे के बीच पलानीसामी ने बहुमत साबित किया!

0
130

मिलनाडु विधानसभा में तोड़-फोड़, धक्कामुक्की और स्पीकर की शर्ट फाड़े जाने की शर्मनाक हरकतो के बाद शशिकला गुट के नए मुख्यमंत्री इ पलानीसामी ने अपना बहुमत साबित कर दिया. 122 विधायकों ने उनका समर्थन किया है जबकि 11 विधायकों ने विरोध में मत दिया. स्पीकर ने गुप्तमतदान की मांग को नामंजूर कर ध्वनिमत से विश्वास मत पर वोटिंग कराई.

सदन में विपक्षी दल और पन्नीरसेल्वम गुट के विधायको ने गुप्तमतदान की मांग की लेकिन स्पीकर से गुप्तमतदान की मांग नामंजूर होने पर सदन को शर्मनाक हरकतो से दंबगई का अखाड़ा बना दिया गया. सदन की कार्रवाई दो बार स्थगित करनी पड़ी और विपक्ष ने मतदान में हिस्सा नहीं लिया.3159

सदन में वोटिंग से पहले कुर्सी फैंकी गई, कागज फाड़े गए और माइक तोड़ दिया गया. जमकर तोड़फोड़, हंगामा, धक्कामुक्की हुई यहां तक की स्पीकर पी धनपाल की शर्ट भी खींचतान में फट गई. विपक्ष का एक विधायक तो स्पीकर की कुर्सी पर बैठ गया. स्टालिन को मार्शल बुलाकर बाहर किया गया और डीएमके के सारे विधायको को सदन से निलंबित कर दिया गया.

स्टालिन सदन से नाटकीय अंदाज में बाहर आए. उन्होने अपनी शर्ट के सारे खुले बटन और फटी शर्ट दिखाते हुए कहा कि, “हमे सदन में मारा गया कपड़े फाड़ दिए गए.”

इसके बाद विपक्ष के नेता एमके स्टालिन ने राज्यपाल सी विद्यासागर राव से भेंट कर अपना विरोध जताया. राज्यपाल से मिलने के बाद एमके स्टालिन द्रमुक विधायकों के साथ मरीना बीच पर गांधी मूर्ति के समक्ष भूख हड़ताल पर बैठ गये, जहां पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया. मरीना बीच पर सुरक्षा कारणों से धारा 144 लागू कर दिया गया है.

दूसरी ओर पूर्व मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम ने भी वीके शशिकला कैंप के खिलाफ अपना संघर्ष जारी रखने का एलान किया है.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY