अर्णव गोस्वामी का अपने चैनल पर खुलासा, जेल से शहाबुद्दीन फोन पर लालू को देता है निर्देश

0
96

र्णव गोस्वामी ने अपने नए चैनल रिपब्लिक के लॉंच पर पहले दिन लालू यादव और सिवान जेल में बंद मुहम्मद शहाबुद्दीन की फोन पर बातचीत का खुलासा कर बिहार की राजनीति को गरमा दिया है. शनिवार को चैनल पर दोनो की बातचीत का टेप प्रसारित किया गया जिसमें नाराज शहाबुद्दीन लालू यादव से कहते सुना जा सकता है कि आपका एसपी खतम है…हटाइए. अहम बात ये है कि शहाबुद्दीन जेल की सलाखो के पीछे से लालू यादव को फोन कर रहा है और लालू यादव उसे खुश करने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से चर्चा किए बगैर एसपी को शहाबुद्दीन के मन की करने के लिए फोन लगवाते है.

 चैनल के मुताबिक पिछले साल अप्रैल में हुई बातचीत में रामनवमी पर सिवान जिले के नवलपुर में हिंसा होने पर शहाबुद्दीन पुलिस की नाकामी पर लालू यादव से अपनी नाराजगी जता रहा है. शहाबुद्दीन की शिकायत पर लालू सिवान के एसपी को फोन लगाने की भी बात कहते सुनाई देते है.3949

लालू यादव और शहाबुद्दीन की बातचीत का खुलासा होने पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार ने चुप्पी साध ली है लेकिन विपक्ष को उन्हे घेरने का मौका मिल गया है. पूर्व उपमुख्यमंत्री और बीजेपी के नेता सुशील मोदी ने कहा कि, “अब प्रमाणित हो गया है कि महागठबंधन सरकार को शहाबुद्दीन जैसे लोग चला रहे हैं. लालू प्रसाद पर अविलंब मुकदमा दर्ज होना चाहिए. राजद से जदयू को शीघ्र रिश्ता तोड़ लेना चाहिए. इस मामले में केंद्र सरकार को भी हस्तक्षेप करना चाहिए और बिहार सरकार को एडवाइजरी जारी करनी चाहिए.”

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि, “यह बात सामने आ गई है कि लालू किस तरह से शहाबुद्दीन से निर्देश ले रहे थे. क्या नीतीश कुमार इस पर कुछ करेंगे?”

हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने कहा कि, “इस ऑडियो के आने से साबित हो गया है कि राज्य में अपराधियों के संरक्षण में सरकार चल रही है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस्तीफा देना चाहिए और इस मामले में केंद्र को हस्तक्षेप करना चाहिए.”

लालू यादव की पार्टी के वरिष्ठ नेता जगदानंद सिंह ने स्वीकार किया कि, “लालू यादव ने बातचीत की है, इसमें गलत क्या है? आखिर कोई अपराधी भी समाज में शांति बनाए रखने की बात करे तो इसमें क्या खराबी है? लालू के पास बैठे व्यक्ति को शहाबुद्दीन का फोन आता है, जिसने बात करा दी. इसके बाद लालू ने एसपी से बात की. पुलिस की तैनाती करने का आग्रह कोई गुनाह नहीं है.”

गौरतलब है कि मुहम्मद शहाबुद्दीन पर 30 से ज्यादा हत्या अपहरण, धमकी और पुलिस पर हमले के केस है. लेकिन लालू यादव ने अपने यादव और मुसलमानो के गठजोड़ के जीताऊ समीकरण को बनाए रखने के लिए शहाबुद्दीन को हमेशा अपनी पार्टी में सजा कर रखा है. शहाबुद्दीन के जेल मे रसूख और मुकदमे को प्रभावित करने के उसके खौफ के चलते सुप्रीम कोर्ट ने उसे सिवान जेल से निकालकर दिल्ली की तिहाड़ जेल में शिफ्ट करवाया है.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY